किसानों को दिल्ली बुलाकर कोरोना कैरियर बनाना चाहती है आम आदमी पार्टी और कांग्रेस

0
दिल्ली के किसानों से समर्थन न मिलने पर केजरीवाल सरकार और कांग्रेस ने पंजाब के हजारों किसानों को भड़का कर दिल्ली तो बुला लिया है लेकिन अब उनके कोरोना कैरियर बनने का खतरा है। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि पंजाब के किसानों को दिल्ली बुलाकर निरंकारी मैदान में उनके आवभगत में पूरी केजरीवाल सरकार लगी है, लेकिन  यहां आनेवाले किसानों के कोरोना टेस्ट के लिए कोई सेंटर तक नहीं बनाया। इस तरह अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए केजरीवाल सरकार किसानों की खिदमत करने के साथ-साथ उन्हें कोरोना भी परोस रही है। उन्होंने कहा कि हजारों की तादाद में आए किसानों में से कितने इसमें कोरोना पॉजिटिव होगें इसका अंदाजा कैसे लगाया जा सकता है। स्थिति इतनी भयावह है कि यह किसानो की जान से भी खिलवाड़ है और आम लोगों की जान से भी खिलवाड़ है। क्या केजरीवाल सरकार उस क्षेत्र से निकलने वाले सैकड़ों सुरक्षाकर्मी, किसानों को खाना पहुंचाने या उनसे मिलने वाले मीडिया कर्मी को कोरोना से सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी लेगी?
आदेश गुप्ता ने कहा कि हैरानी तो इस बात की है कि केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में शादी समारोह में सिर्फ 50 लोगों को आने की अनुमति दी है लेकिन खुद पंजाब से हजारों की तादाद में किसानों को दिल्ली बुला रही है। क्या अब केजरीवाल सरकार को दिल्ली में कोरोना फैलने का डर नहीं है? मुख्यमंत्री केजरीवाल का यह कैसा दोहरा चरित्र है। उन्होंने कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि दिल्ली में देश विरोधी और प्रधानमंत्री विरोधी नारे भी लगाए जा रहे हैं, अलगाववाद को बढ़ावा देने के नारे लगाए जा रहे हैं । इसके पीछे आम आदमी पार्टी सरकार है। समाज सेवा की आड़ में आम आदमी पार्टी के नेता कोरोना महामारी फैलाकर एक बार फिर से देश और दिल्ली में डर और भय का माहौल पैदा करना चाहते हैं।
आदेश गुप्ता ने कहा कि केजरीवाल सरकार ने अपने नेता और मंत्रियों को बिना मास्क के सार्वजनिक कार्यक्रम करने की खुली  छूट दे रखी है। 2000 रुपए से लेकर 2 लाख रुपए का जुर्माना तो सिर्फ दिल्ली की आम जनता पर है। एक ओर भारतीय जनता पार्टी मास्क वितरित कर कोरोना से बचने के लिए लोगों को जागरूक कर रही है वहीं दूसरी ओर आम आदमी पार्टी नेता और विधायक लोगों के बीच बिना मास्क के उपस्थित होकर कोरोना महामारी को फैलाने का काम कर रहे हैं। केजरीवाल सरकार के उपमुख्यमंत्री से लेकर विधायक और नेता, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पद चिन्हों पर चलते हुए फोटो खिंचवाने के लिए आम जनता के स्वास्थ्य को भी हाशिए पर रख दिया है, लेकिन वास्तविकता के विपरीत ट्वीट कर दूसरों को ज्ञान देने में बिल्कुल भी पीछे नहीं रहते हैं।
आदेश गुप्ता ने कहा कि पहले विधायक अमानतुल्लाह खान बिना मास्क के अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ फोटो खिंचवाते हैं, फिर उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया बिना मास्क के सगाई कार्यक्रम में हिस्सा लेते हैं जहां करीब डेढ़ सौ लोग उपस्थित थे, अब आम आदमी पार्टी नेता बिना मास्क के ही लोगों के बीच खाना बांट रहे हैं। मुख्यमंत्री केजरीवाल बताएं कि उन्होंने अपने नेताओं से कितना जुर्माना वसूला है? केजरीवाल सरकार का तुगलकी फरमान उनके नेताओं और मंत्रियों पर लागू क्यों नहीं होती है? ऐसा लग रहा है जैसे कि आम आदमी पार्टी और उनके नेताओं ने कसम खा रखी है दिल्ली को कोरोना कैपिटल बनाने की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here