हिंदू विरोधी कांग्रेस को केरल की जनता ने सिखाया सबक

0

 

लेखक : नीरज कुमार दुबे

स्थानीय चुनावों के जो नतीजे सामने आये हैं उससे वाम अपना गढ़ बचाने में कामयाब होता दिख रहा है और भाजपा भी एक बड़ी विजेता के रूप में आगे बढ़ती दिख रही है। नुकसान उठाना पड़ा है तो सिर्फ कांग्रेस को जिसका केरल की अधिकतर लोकसभा सीटों पर कब्जा है।

भारत को इस्लामिक राज में स्थापित करने की मंशा रखने वाली जमात-ए-इस्लामी से गठबंधन करना कांग्रेस को बहुत महँगा पड़ा है। केरल की जनता ने धर्मनिरपेक्षता के मूल्यों को ताक पर रखने के लिए कांग्रेस को स्थानीय चुनावों में ऐसी सजा दी है कि उसे भविष्य के लिये चेत जाना चाहिए। लेकिन कांग्रेस शायद ही चेते क्योंकि राहुल गांधी के तो सामने ही उनकी नामांकन रैली में खुल कर इस्लामिक झंडे लहराये जा रहे थे। जो नेता चुनाव जीतने के लिए साम्प्रदायिक राजनीति का सहारा ले उससे क्या उम्मीद रखी जा सकती है। इसके अलावा यह भी ध्यान रखना चाहिए कि केरल में कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन UDF की कमान अब ओमान चांडी या के. मणि जैसे नेताओं के हाथों में नहीं बल्कि एम.एम. हसन और जमात नेता आमिर जैसे लोगों के हाथ में है। जमात-ए-इस्लामी ने इस्तांबुल में हागिया सोफिया म्यूजियम को मस्जिद में बदले जाने का समर्थन किया था जिससे केरल के ईसाई संगठनों में गहरी नाराजगी थी, लेकिन कांग्रेस शायद इसे समझ नहीं पाई या समझ कर भी अनदेखा कर दिया। जमात-ए-इस्लामी के राजनीतिक धड़े वेल्फेयर पार्टी ऑफ इंडिया (WPI) के साथ गठबंधन से IUML और कांग्रेस को केरल में तो नुकसान हुआ ही है साथ ही देश के अन्य प्रांतों में भी नुकसान हो सकता है। भाजपा पहले ही आरोप लगाती रही है कि जमात-ए-इस्लामी और PFI जैसे संगठनों के जरिए कांग्रेस कट्टरपंथी सिंडिकेट को बढ़ावा दे रही है।

केरल में लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस की जिस तरह सुनामी चली थी और 20 में से 19 लोकसभा सीटों पर पार्टी को विजय मिली थी, उसको देखते हुए माना जा रहा था कि विधानसभा चुनावों में वाम गठबंधन का पत्ता साफ हो जायेगा लेकिन ऐन चुनावों से पहले स्थानीय चुनावों के जो नतीजे सामने आये हैं उससे वाम अपना गढ़ बचाने में कामयाब होता दिख रहा है और भाजपा भी एक बड़ी विजेता के रूप में आगे बढ़ती दिख रही है। नुकसान उठाना पड़ा है तो सिर्फ कांग्रेस को जिसका केरल की अधिकतर लोकसभा सीटों पर कब्जा है। केरल के चुनाव परिणाम मुख्यमंत्री पी. विजयन और सत्तारुढ़ गठबंधन की अगुआ माकपा के लिए संजीवनी साबित हुए हैं। केरल के मुख्यमंत्री के कार्यालय पर जिस तरह गोल्ड स्मगलिंग मामले की छाया पड़ी, केरल के माकपा महासचिव कोडयारी बालाकृष्णनन को अपने बेटे के ड्रग्स मामले में जेल जाने पर पद छोड़ने को बाध्य होना पड़ा, इस सबसे सरकार की छवि काफी खराब हो रही थी लेकिन मुख्यमंत्री पी. विजयन ने कांग्रेस को घेरने के लिए जाल बुना। इसके लिए केरल में क्रिश्चन पार्टी के नेता जोस के. मणि को UDF से निकाल कर LDF के साथ जोड़ा। हालांकि इसके लिए मुख्यमंत्री की पार्टी माकपा को अपनी सहयोगी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की आलोचना भी झेलनी पड़ी।

केरल में अल्पसंख्यक मुस्लिम और ईसाई वोट परंपरागत तौर पर कांग्रेस का वोटर रहा है लेकिन जोस मणि के LDF के साथ आने के बाद सीपीएम ने कांग्रेस के ईसाई वोटों में जबरदस्त सेंध लगा दी। इसके अलावा केरल की ईसाई आबादी इस बात से भी परेशान थी कि कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन UDF में इस्लामी ताकतें हावी होती जा रही थीं इसलिए LDF को समर्थन मिला। कांग्रेस को इस बात से भी नुकसान उठाना पड़ा है कि अधिकांश सीटों पर उसे बागियों का सामना करना पड़ा। यही नहीं UDF में जिस तरह सीट बंटवारे को लेकर घमासान हुआ उससे भी गठबंधन की छवि खराब हुई। कांग्रेस के नेतृत्व वाला गठबंधन एक तरह से विभाजित परिवार की तरह दिखाई दे रहा था।

चुनाव परिणामों की बात की जाये तो सीपीएम के नेतृत्व वाले LDF ने शानदार जीत दर्ज कर सर्वाधिक सीटें हासिल की हैं जबकि दूसरे नंबर पर कांग्रेस के नेतृत्व वाला UDF रहा है। विजयन के लिए खुश होने की बात इसलिए भी है क्योंकि अकसर पंचायत और निकाय चुनाव में राज्य की सरकार में सत्तारुढ़ गठबंधन के खिलाफ नतीजे आते रहे हैं। चुनाव में सफलता पर मुख्यमंत्री विजयन ने ट्वीट कर कहा कि यह केरल को प्यार करने वाले लोगों का उन लोगों को संदेश है जो इसे नष्ट करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने एक अन्य ट्वीट किया, ‘‘केरल धन्यवाद। LDF पर विश्वास करने के लिए धन्यवाद। हम केरल के लोगों के विश्वास से अभिभूत हैं। यह धर्मनिरपेक्षता और समावेशी विकास की जीत है।’’ उन्होंने कहा कि यह ‘‘जनता की जीत’’ है। उन्होंने कहा कि LDF का प्रदर्शन उन लोगों को जवाब है, जो राज्य की उपलब्धियों को कमतर करने की कोशिश में लगे थे। केरल के स्थानीय चुनावों में उठाये गये मुद्दों की बात करें तो राजनीतिक दलों ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों की जमीन तैयार करने के लिए राष्ट्रीय मुद्दों को ज्यादा उठाया साथ ही कोविड-19 से निपटने की राज्य सरकार की उपलब्धियों और नाकामियों को भी चुनाव प्रचार में उठाया गया।

जहाँ तक भाजपा की बात है तो पिछले चुनाव की तुलना में पार्टी ने कुछ बेहतर प्रदर्शन किया है। भाजपा 24 ग्राम पंचायतों, 10 ब्लॉक पंचायतों और दो नगर पालिकाओं में विजयी रही। भाजपा पलक्कड़ नगरपालिका पर कब्जा करने में सफल रही। यह नगरपालिका क्षेत्र इस मायने में महत्वपूर्ण है क्योंकि सबरीमाला मंदिर इसी के अंतर्गत आता है और मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर हाल में काफी आंदोलन भी हुए। देखा जाये तो भाजपा 2015 के चुनाव की तुलना में कुछ बेहतर प्रदर्शन करती हुई दिख रही है, जब उसने 14 ग्राम पंचायतों और एकमात्र पल्लकड नगर पालिका में जीत दर्ज की थी। भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष के. सुरेंद्रन ने आरोप लगाया है कि यूडीएफ और एलडीएफ ने तिरुवनंतपुरम में उनकी पार्टी को हराने के लिए साथ मिलकर काम किया। दरअसल भाजपा तिरुवनंतपुरम निकाय पर कब्जा कर शशि थरूर के आधार को हिलाना चाहती थी लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। हालांकि शहरी क्षेत्र में पार्टी का आधार बढ़ा है लेकिन उसके लिए मंजिल अभी दूर है। बहरहाल, चुनाव परिणामों पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पहले से बेहतर जनादेश देने के लिए केरल की जनता का आभार जताया है और कहा है कि हम एलडीएफ और यूडीएफ, दोनों की भ्रष्ट, साम्प्रदायिक और पाखंडी राजनीति को एक्सपोज करने का काम जारी रखेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here